अमरनाथ यात्रा की जानकारी | Shri Amarnatha Temple Yatra Guide

जय श्री राम भक्तों | यात्रा 99 में आपका एक बार फिर से स्वागत है | जैसा की आप जानते हैं कि हम अपने ब्लॉग में देश – विदेश की सभी धार्मिक और प्रसिद्ध यात्राओं की शानदार जानकारी पोस्ट करते हैं | उसी क्रम में आज हम आपके लिए बाबा श्री अमरनाथ यात्रा (Amarnath Temple) की महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आये हैं | इस यात्रा की जानकारी इस ब्लॉग को बनाने वाले जितेन्द्र कुमार अरोरा जी ने स्वयं लिखी हैं | क्योंकि उन्होंने सन 2014 में श्री अमरनाथ यात्रा पूरी की थी | उन्हें यात्रा करना और अपने खुद के अनुभव को शेयर करना बहुत पसंद है | इसीलिए वह स्टेप बाई स्टेप आपको यहाँ इस पवित्र यात्रा की जानकारी देने जा रहे हैं |

  1. श्री अमरनाथ यात्रा के लिए जाने से पहले रजिस्ट्रेशन (Amarnath Yatra Registration) करवाना होता है। हमारे देश के बहुत सारे बैंकों जैसे यस बैंक आदि में रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरे गए थे। रजिस्ट्रेशन के दौरान ही मेडिकल चेकअप करवाना होता है, उसके बाद ही बैंक आपको पूरा रजिस्ट्रेशन कार्ड देता है। इस कार्ड को आपको पूरी यात्रा  में चेकिंग के लिए साथ रखना होता है।
  2. अमरनाथ यात्रा के लिए यात्रियों को शारीरिक रूप से स्वस्थ होना बहुत आवश्यक है , क्योंकि श्री अमरनाथ यात्रा के दौरान लगभग 14 ,800 फिट की उँचाई तक जाना और आना पड़ता है। 
  3. श्री अमरनाथ यात्रा के समय जरुरी और आवश्यक दर्द निवारक दवाइयों को साथ ले जाना बहुत जरुरी है। जैसे मरहम, गलूकोज़ , पेन किलर, विक्स, मूव, वेसलीन , बोरो प्लस आदि. 
  4. श्री अमरनाथ यात्रा जाते  समय गरम कपड़ो को भी ले जाना बहुत जरुरी है।  अपने साथ ऊनी कपडे, रेन कोट, फुल गर्म इनर, मफरल, मंकी कैप, अच्छे क्वालिटी  के स्पोर्ट्स शूज़ आदि , धुप से बचने के लिए एक हेट भी रख सकते है। साथ में एक लाठी जिसके नीचे लोहे की नोक लगी हो पहाड़ों और बर्फ में चलने में सहायक होती है। 

अमरनाथ यात्रा का विवरण | Amaranatha Temple Travel Guide | Amarnath Trek Distance

श्री अमरनाथ जी यात्रा का मुख्य रास्ता जम्मूतवी से शुरू होता है, यहाँ से आप सड़क या वायुयान   से जम्मू  जम्मू उधमपुर, कूद, पत्नी टॉप, बटोट, रामवन, बनिहाल, जवाहर टर्नल, खानेबल और अनंतनाग होते हुए पहलगांव पहुंचा जा सकता है,

 यात्रा के विभिन्न चरण | Amarnath Yatra Route

  1. प्रथम चरण -पहलगांव से चंदनवाड़ी 16 किमी की यात्रा पैदल या छोटी कार, बस आदि से पूरी की जा सकती है। चंदनवाड़ी लगभग 6500 फ़ीट की उचाई पर स्थित है, पैदल 5 या 6 घंटे में पूरी की जा सकती है और कार आदि से 1  घंटे में पहुंचा जा सकता है। 
  2.  दूसरा चरण – चंदनवाड़ी से पिस्सूटॉप की दूरी 3 किमी है, जो की 10600 फ़ीट की उचाई पर है, यहाँ की यात्रा 2 से 3 घंटे में पूरी की जा सकती है। यात्रा में मुख्य आकर्षण पिस्सूटॉप घाटी है, जो सर्पाकार है और बर्फ से ढकी है। 
  3. तीसरा चरण- पिस्सूटॉप से शेषनाग की यात्रा 8 किमी की है, जिसकी उचाई 11630 फ़ीट है, इस यात्रा को ४ से 5 घंटे में पूरा किया जा सकता है . 
  4. चतुर्थ चरण – शेषनाग से महागुनस की दूरी लगभग 6 किमी है,  महागुनस पर्वत की चढ़ाई 3 से 4 घंटे में पूरी की जा सकती है.   जिसकी उचाई 14800 फ़ीट है .
  5. पांचवा चरण – महागुनस से पोषपत्री की दूरी 1 किमी है, जो आधे घंटे में पूरी की जा सकती है .
  6. छटा चरण -पोषपत्री से पंचतरणी की दूरी लगभग 6 किमी है, इसकी यात्रा 3 से 3 घंटे में पूरी की जा सकती है, इसकी उचाई 12500 फ़ीट की है , पांच तरणि में पांच प्रकार की नदियों का संगम है .
  7. सातवां चरण – पंचतरणी से पवित्र गुफा की यात्रा 6 किमी है, और उचाई 13500 फ़ीट के आस -पास है, इसमें 3 किमी का रास्ता बर्फ से ढका  हुआ है, रस्ते में एक हिम नदी आती है जिसे पार करके पवित्र अमरनाथ गुफा के दर्शन होते है, 
Amarnath Yatra Map

श्री अमरनाथ गुफा 100 फ़ीट लम्बी और150 फ़ीट चौड़ी है,जिसमे अपने आप प्राकर्तिक रूप से निर्मित बर्फ से बना लगभग 10 फ़ीट ऊँचा शिवलिंग प्रकट होता है। बाई और माँ पार्वती और श्री गणेश जी का हिम निर्मित स्थान है। एक प्राचीन कथा के मुताबिक भगवान शंकर ने माँ पार्वती को अमर गुफा में संसार की रचना के गुड़ रहस्य की कथा सुनाई थी। उसी समय कबूतर (Amarnath Pigeons) का एक जोड़ा कथा को सुन रहा था और सुनकर अमर हो गया , आज भी कबूतर अमरनाथ दर्शनार्थियों को गुफा में दर्शन देते है।  

निष्कर्ष

भक्तों आज की पोस्ट में हमने आपको श्री अमरनाथ गुफा की यात्रा की बहुत ही उपयोगी जानकारी देने की कोशिश की है | आशा करते हैं आपको हमारी यह पोस्ट जरुर पसंद आई होगी | अगर आप या आपके रिश्तेदार या मित्र भी इस पवित्र यात्रा पर जाना चाहते हैं तो यह जानकारी आपके बहुत काम आ सकती है | इसीलिए इस उपयोगी पोस्ट को शेयर जरुर करें |

अगर आपके मन में भी श्री अमरनाथ गुफा यात्रा के सम्बन्ध में कोई सवाल तो हमें जरुर लिखें | और अगर अप किसी और यात्रा की जानकारी हमारे ब्लॉग यात्रा 99 में देखना चाहते हैं तो हमें कमेन्ट करें | हम जल्द से जल्द उस यात्रा की जानकारी यहाँ प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे |

जय श्री राम | जय महाकाल

सौ० जितेन्द्र कुमार अरोरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *